भगवान शिव ने इस तरह ली पार्वती के प्रेम की परीक्षा

॥ जय श्री सांवलिया सेठ ॥ बोल कर अधिक से अधिक इस पोस्ट को शेयर एवम लाइक करें, सेठ जी आपकी मनोकामना अवश्य पूरी करेंगे |

!! जय श्री सांवरिया जी !!

भगवान शिव ने ली थी पार्वती के प्रेम की परीक्षा

famous shiv paintings form Tanjour

शिवपुराण में दिए गए एक प्रसंग के अनुसार, पार्वती भगवान शिव को पति रूप में पाना चाहती थी। जिसके लिए पार्वती कई वर्षों से कठोर तपस्या कर रही थी। माता पार्वती की तपस्या देखकर भगवान शिव उनकी भक्ति पर प्रसन्न थे, लेकिन भगवान शिव उनके प्रेम की परीक्षा लेना चाहते थे।

parvatimata

parvatimata

परीक्षा लेने के लिए भगवान शिव एक ब्राह्मण का रूप धारण करके माता पार्वती के आश्रम में गए। जहां देवी पार्वती तपस्या कर रही थी। पार्वती को तपस्या करते देख ब्राह्मण रूपी भगवान शिव ने माता से इतनी कठोर तपस्या करने का कारण पूछा। ब्राह्मण के ऐसा पूछने पर पार्वती ने उन्हें बताया कि वे भगवान शिव को अपने पति रूप में पाना चाहती है। उन्हीं को पाने के लिए वे तपस्या कर रही है। माता पार्वती के ऐसा कहने पर ब्राह्मण रूपी शिव माता पार्वती के सामने भगवान शिव की निन्दा करने लगे। ब्राह्मण के मुंह से भगवान शिव की निन्दा सुनने पर माता पार्वती ने ब्राह्मण की बातों का विरोध किया और भगवान शिव के गुणों का वर्णन करने लगी। माता पार्वती के ऐसा करने पर भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए और उन्हें अपने शिव रूप के दर्शन दिए। साथ ही पार्वते को ही अपनी पत्नी बनाने का वरदान भी दिया।

इसे लाइक और शेयर करना ना भूले।
भगवान शिव आपकी हर मनोकामना पूरी करे।

ALSO READ  कृष्णा सुदामा मिलन सुप्रसिद्ध भजन गायक रवीन्द्र जैन की आवाज़ में।

!! ॐ नमः शिवाय !!

!! जय श्री सांवलिया सेठ जी !!

॥ जय श्री सांवलिया सेठ ॥ बोल कर अधिक से अधिक इस पोस्ट को शेयर एवम लाइक करें, सेठ जी आपकी मनोकामना अवश्य पूरी करेंगे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *