केतु ग्रह

ketu-graha

केतु

केतु अवरोही/दक्षिण चंद्र आसंधि का देवता है। केतु को आम तौर पर एक “छाया” ग्रह के रूप में जाना जाता है। उसे राक्षस सांप की पूंछ के रूप में माना जाता है। माना जाता है कि मानव जीवन पर इसका एक जबरदस्त प्रभाव पड़ता है और पूरी सृष्टि पर भी. कुछ विशेष परिस्थितियों में यह किसी को प्रसिद्धि के शिखर पर पहुंचने में मदद करता है। वह प्रकृति में तमस है और पारलौकिक प्रभावों का प्रतिनिधित्व करता है।

ज्योतिष के अनुसार, केतु और राहु, आकाशीय परिधि में चलने वाले चंद्रमा और सूर्य के मार्ग के प्रतिच्छेदन बिंदु को निरूपित करते हैं। इसलिए, राहु और केतु को क्रमशः उत्तर और दक्षिण चंद्र आसंधि कहा जाता है। यह तथ्य कि ग्रहण तब होता है जब सूर्य और चंद्रमा इनमें से एक बिंदु पर होते हैं, चंद्रमा और सूर्य को निगलने वाली कहानी को उत्पन्न करता है।

केतु ग्रह दोष के प्रभाव :

  1. बुरी संगत के कारण धन का हानि
  2. जोड़ों के दर्द से परेशानी
  3. संतान का भाग्योदय न होना, स्वास्थ्य के कारण तनाव

केतु ग्रह दोष के  उपाय:

  1. भगवान गणेश की आराधना करें
  2. ऊं गं गणपतये नम मंत्र का 1 माला जाप करें
  3. गणेश अथर्व शीर्ष का पाठ करें
  4. कुंवारी कन्याओं का पूजन करें, पत्नी का अपमान न करें
  5. घर के मुख्य द्वार पर दोनों तरफ तांबे की कील लगायें
  6. पीले कपड़े में सोना, गेहूं बांधकर कुल पुरोहित को दान करें
  7. दूध, चावल, मसूर की दाल का दान करें
  8. बाएं हाथ की अंगुली में सोना पहनने से लाभ
  9. 43 दिन तक मंदिर में लगातार केला दान करें
  10. काले व सफेद तिल बहते जल में प्रवाहित करें.
ALSO READ  शनि ग्रह

केतु का मंत्र :

ऊं नमो अर्हते भगवते श्रीमते पार्श्‍व तीर्थंकराय धरेन्‍द्रयक्ष पद्मावतीयक्षी सहिताय |
ऊं आं क्रों ह्रीं ह्र: केतुमहाग्रह मम दुष्‍टग्रह, रोग कष्‍टनिवारणं सर्व शान्तिं च कुरू कुरू हूं फट् || 7000 जाप्‍य ||

तान्त्रिक मंत्र– ऊं स्‍त्रां स्‍त्रीं स्‍त्रौं स: केतवे नम: || 17000 जाप्‍य ||

नवग्रह की आरती के लिए यहाँ क्लिक करे
नवग्रह की चालीसा के लिए यहाँ क्लिक करे

नवग्रहों की सूची:

surya shukra shani rahu mangal guru budh chandra


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *