बृहस्पति ग्रह

guru-graha

बृहस्पति

बृहस्पति, देवताओं के गुरु हैं, शील और धर्म के अवतार हैं, प्रार्थनाओं और बलिदानों के मुख्य प्रस्तावक हैं, जिन्हें देवताओं के पुरोहित के रूप में प्रदर्शित किया जाता है और वे मनुष्यों के लिए मध्यस्त हैं। वे बृहस्पति ग्रह के स्वामी हैं। वे सत्व गुणी हैं और ज्ञान और शिक्षण का प्रतिनिधित्व करते हैं। अधिकांश लोग बृहस्पति को “गुरु” बुलाते हैं।

हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, वे देवताओं के गुरु हैं और दानवों के गुरु शुक्राचार्य के कट्टर विरोधी हैं। उन्हें गुरु के रूप में भी जाना जाता है, ज्ञान और वाग्मिता के देवता, जिनके नाम कई कृतियां हैं, जैसे कि “नास्तिक” बार्हस्पत्य सूत्र.

वे पीले या सुनहरे रंग के हैं और एक छड़ी, एक कमल और अपनी माला धारण करते हैं। वे गुरुवार, बृहस्पतिवार या थर्सडे के स्वामी हैं।

बृहस्पति ग्रह दोष के प्रभाव:

  1. सोने की हानि, चोरी की आशंका
  2. उच्च शिक्षा की राह में बाधाएं
  3. झूठे आरोप के कारण मान-सम्मान में कमी
  4. पिता को हानि होने की आशंका

बृहस्पति ग्रह दोष के उपाय:

  1. परमपिता ब्रह्मा की आराधना करें
  2. बहते पानी में बादाम, तेल, नारियल प्रवाहित करें
  3. माथे पर केसर का तिलक लगायें
  4. सोने की अंगूठी में सवा पांच रत्ती का पुखराज गुरूवार को दाएं हाथ की तर्जनी अंगुली में धारण करें
  5. पूजा स्थल की नियमित रूप से सफाई करें
  6. पीपल के पेड़ पर 7 बार पीला धागा लेपटकर जल दें
  7. 600 ग्राम पीले चने मंदिर में दान दें
  8. जुए-सट्टे की लत न पालें, मांसाहार-मद्यपान से परहेज करें
  9. कारोबार में भाई का साथ लाभकारी संबंध मधुर बनायें रखें

बृहस्पति का मंत्र :

ऊं नमो अर्हते भगवते श्रीमते वर्धमान तीर्थकराय मातंगयक्ष |
सिद्धायिनीयक्षी सहिताय ऊं आं क्रों ह्रीं ह्र: गुरु महाग्रह मम दुष्‍टग्रह,
रोग कष्‍ट निवारणं सर्व शान्तिं च कुरू कुरू फट् || 19000 जाप्‍य ||

ALSO READ  शनि ग्रह

तान्त्रिक मंत्र– ऊं ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम: || 19000 जाप्‍य ||

बृहस्पति जी की आरती के लिए क्लिक करे 

नवग्रहों की सूची :

surya shukra shani rahu mangal ketu budh chandra


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *