तेरे नैना दे प्यालियां चो जरा पीती है

janmashtami-in-sanwaliyaji-mandir-rajasthan

तेरे नैना दे प्यालियां चो जरा पीती है
ज़रा जिन्नी पीती है, थोड़ी जिनी पीती है

मेनू दुनिया दी लोको कोई होश न रही
चुप कितेया जुबा एह खामोश न रही
मेरी इक इक गल दा तराना हो गया
मैं दीवाना हो गया, मैं मस्ताना हो गया
तेरे नैना दे प्यालियां चो…

मैं गरीब नहीं जे लोको मैं अमीर हो गया
शाह मिलेया ते शाही मैं फ़कीर हो गया
मेरा धरती तो उच्चा आशिआना हो गया
मैं दीवाना हो गया, मैं मस्ताना हो गया
तेरे नैना दे प्यालियां चो…

जिधर वेखदा मैं तेरे ही नज़ारे वेखदा
तेरी मुठ्ठी विच चन्न ते सितारे वेखदा
मेरे आसे पासे लाला दा खजाना हो गया
मैं दीवाना हो गया, मैं मस्ताना हो गया
तेरे नैना दे प्यालियां चो…

जन जन विच मेरा एह संदेश दे देओ
गली गली कूच कूच देश देश दे देओ
हूँ पीना ते पियाना साडा कम् हो गया
मैं दीवाना हो गया, मैं मस्ताना हो गया
तेरे नैना दे प्यालियां चो…

ALSO READ  जन्माष्टमी का दिन लागे बड़ा प्यारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *