रंग डार गयो री मोपे सांवरा

॥ जय श्री सांवलिया सेठ ॥ बोल कर अधिक से अधिक इस पोस्ट को शेयर एवम लाइक करें, सेठ जी आपकी मनोकामना अवश्य पूरी करेंगे |

14731141_1276335295758769_3925494241813683794_n

रंग डार गयो री मोपे सांवरा
मर गयी लाजन में हे री मेरी बीर,
मैं क्या करूँ होरी में

मारी तान के ऐसी मोपे पिचकारी
मेरो भीजो तन को चीर,
मैं क्या करूँ होरी में

पागल के ‘चित्र विचत्र’ संग
लीला भाई यमुना के तीर,
मैं करूँ सजनी होरी में

॥ जय श्री सांवलिया सेठ ॥ बोल कर अधिक से अधिक इस पोस्ट को शेयर एवम लाइक करें, सेठ जी आपकी मनोकामना अवश्य पूरी करेंगे |
ALSO READ  होली होगी हमारी तुम्हारी

   2 Comments


  1. Parth bhardwaj
      July 26, 2017

    I want a sawariya bhajan/ katha/ …
    I heard that on astha channal for a long time ago,
    I remember few lines of-
    Sawariya p lo ek hi ghutki pida mite bajate chutki, tab narsih ki bari aai maya prabhu bht dikhai…..

  2. admin
      July 31, 2017

    Which Bhajan? Let us know the Title of Bhajan so we can arrange.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *