Recent News Update


Bhakton Ke Vichar

  • admin dasha mata ki aarti ke liye es link pe
  • RAM AHIR Jai Shri sanwaliya Seth
  • hemraj dhaker jay ho shree radhe krishna ki
  • admin Which Bhajan? Let us know the Title of Bhajan so we can arra
  • Parth bhardwaj I want a sawariya bhajan/ katha/ ... I heard that on astha
  • प्राचीन मंदिर भादसौड़ा स्थित सांवलिया सेठ मंदिर- Bhadsoda Sanwaliyaji

    सांवलिया सेठ का तीसरा मंदिर भादसौड़ा कस्बे में स्थित है । यह मंदिर सबसे पुराना मंदिर है इसलिए यह सांवलिया सेठ प्राचीन मंदिर के नाम से जाना जाता है । भादसोड़ा में सुथार जाति के अत्यंत ही प्रसिद्ध गृहस्थ संत पुराजी भगत रहते थे। उनके निर्देशन में सबसे बड़ी मूर्ति को भादसोड़ा गाँव लाया गया जहाँ उदयपुर मेवाड राज-परिवार के भींडर ठिकाने की ओर से भगतजी के निर्देशन में सांवलिया जी का मंदिर बनवाया गया।
    Third temple of Sanwaliyaji is situated in Bhadsoda village.This temple is 1.5 km from bhadsoda cross road (chouraha).